प्राय: पूछे जाने वाले प्रश्न


डाउनलोड अनिवासी भारतीयों के लिए पूछे जाने वाले प्रश्न


एनआरओ खाते के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न


प्र. अप्रवासी भारतीय कौन है ?
उत्तर : अप्रवासी भारतीय एक भारतीय नागरिक है जो निम्न उद्देश्य के लिए भारत से बाहर रहता है.

    (क) नियोजन या किसी कारोबार या पेशा के उद्देश्य से

    (ख)अनिश्चित काल के लिए भारत से बाहर रहने की मंशा का संकेत करने वाली परिस्थितियों के तहत

प्र. मूल रूप से भारतीय कौन है ?

उत्तर : किसी दूसरे देश (बंगला देश या पाकिस्तान को छोडकर ) का एक नागरिक मूल रूप से भारतीय है यदि

    (क) उसने कभी भारतीय पासपोर्ट लिया हो, अथवा

    (ख) वह अथवा उनके माता-पिता अथवा उनके दादी-दादा में से कोई भारत का के नागरिक रहे हों, अथवा

    (ग) भारतीय नागरिक का पति / की पत्नी अथवा उपर्युक्त (क) या (ख)

प्र. मैं एनआरओ खाता कैसे खोल सकता हूँ ?

उत्तर : हमारे बैंक की वेबसाइट से खाता खोलने का फार्म डाउनलोड करके, उसे भरकर और उसे आवश्यक दस्तावेजों व शुल्क के साथ भेजते हुए आप एनआरओ खाता खोल सकते हैं.

प्र. एनआरओ खाता खोलने के लिए मुझे कौन-कौन से दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे ?

उत्तर : पूरी तरह भरा गया आवेदन पत्र जो आपके बैंकर / भारतीय राजदूत / पब्लिक नोटरी अथवा कोई ऐसा व्यक्ति जिसे बैंक जानता हो, द्वारा हस्ताक्षरित व अभिप्रमाणित हो और उसके साथ निम्नलिखित कागज़ात संलग्न हो :

    (क) पासपोर्ट की प्रतिलिपि

    (ख) वीसा की प्रतिलिपि

    (ग) मूल रूप से अद्यतन बैंक विवरणी, आवासीय प्रमाण के लिए मूल रूप से अद्यतन विदेशी टेलीफ्ऎोन / बिजली बिल

प्र. क्या मेरे एनआरओ खाते की निधि प्रत्यावर्तनीय है ?
उत्तर : प्रत्यावर्तन नियंत्रित है. यह प्रति वित्तीय वर्ष (अप्रैल-मार्च) में १ मिलियन यूएस डॉलर तक अनुमत है बशर्ते कि प्रयोज्य करों का भुगतान किया गया हो.

प्र. क्या वे भारत में कर योग्य हैं ?
उत्तर : हाँ, भारतीय आयकर अधिनियम के अनुसार स्रोत पर ही कर की राशि कटौती योग्य है.

प्र. क्या मैं अपना एनआरओ खाता खोलने के लिए कोई भी मुद्रा भेज सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप कोई भी मुद्रा भेज सकते हैं. हम आपकी मुद्रा को भारतीय रूपयों में रूपांतरित कर लेंगे और एनआरओ खाता खोल देंगे. आपका एनआरओ खाता केवल भारतीय रुपयों में परिचालित किया जाएगा.

प्र. क्या मैं अपने एनआरओ खाते के लिए संयुक्त धारक रख सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप अपना एनआरओ खाता अन्य अप्रवासी भारतीयों के साथ-साथ प्रवासी भारतीयों के साथ संयुक्त रूप से रख सकते हैं.

प्र. क्या मैं अपने एनआरओ खाते के लिए नामिती को रख सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, एनआरओ खाते के लिए नामांकन सुविधा उपलब्ध है.

एनआरई खाते के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र. एनआरआई कौन है ?
उत्तर : एनआरआई एक भारतीय नागरिक है जो निम्नलिखित उद्देश्य के लिए भारत से बाहर रहता है.

    (क) नियोजन या किसी कारोबार या पेशा के उद्देश्य से

    (ख) अनिश्चित काल के लिए भारत से बाहर रहने की मंशा का संकेत करने वाली परिस्थितियों के तहत

    (ग) नियोजन के संबंध में अस्थायी अवधि के लिए भारत से बाहर प्रतिनियुक्त कोई भारतीय नागरिक

प्र. मूल रूप से भारतीय कौन है ?
उत्तर : किसी दूसरे देश (बंगला देश या पाकिस्तान को छोडकर ) का एक नागरिक मूल रूप से भारतीय है यदि

    (क) उसने कभी भारतीय पासपोर्ट लिया हो, अथवा

    (ख) वह अथवा उनके माता-पिता अथवा उनके दादी-दादा में से कोई भारत का के नागरिक रहे हों, अथवा

    (ग) भारतीय नागरिक का पति / की पत्नी अथवा उपर्युक्त (क) या (ख)

प्र. मैं एनआरई खाता कैसे खोल सकता हूँ ?
उत्तर : हमारे बैंक की वेबसाइट से खाता खोलने का फार्म डाउनलोड करके, उसे भरकर और उसे आवश्यक दस्तावेजों व शुल्क के साथ भेजते हुए आप एनआरई खाता खोल सकते हैं.

प्र. एनआरओ खाता खोलने के लिए मुझे कौन-कौन से दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे ?
उत्तर : पूरी तरह भरा गया आवेदन पत्र जो आपके बैंकर / भारतीय राजदूत / पब्लिक नोटरी अथवा कोई ऐसा व्यक्ति जिसे बैंक जानता हो, द्वारा हस्ताक्षरित व अभिप्रमाणित हो और उसके साथ निम्नलिखित कागज़ात संलग्न हो :

    (क) पासपोर्ट की प्रतिलिपि

    (ख) वीसा की प्रतिलिपि

    (ग) मूल रूप से अद्यतन बैंक विवरणी, आवासीय प्रमाण के लिए मूल रूप से अद्यतन विदेशी टेलीफोन / बिजली बिल

प्र. एनआरई खाते के कितने प्रकार होते हैं ?
उत्तर : बचत, चालू, सावधि जमा एवं आवर्ती जमा खाते.

प्र. सावधि जमाओं की कितनी अवधि होती है ?
उत्तर : एनआरई सावधि जमा खाता 1 से 10 र्वा तक की अवधि हेतु खोला जा सकता है.

प्र. क्या मेरे एनआरई खाते की निधियाँ प्रत्यावर्तनीय हैं ?
उत्तर : हाँ, एनआरई खाते की निधियाँ मुक्त रूप से प्रत्यावर्तनीय हैं.

प्र. क्या वे भारत में कर योग्य हैं ?
उत्तर : नहीं, यह निधि आयकर व संपत्ति कर से मुक्त है.

प्र. क्या मैं अपना एनआरई खाता खोलने के लिए कोई भी मुद्रा भेज सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप कोई भी मुद्रा भेज सकते हैं. हम आपकी मुद्रा को भारतीय रूपयों में रूपांतरित कर लेंगे और एनआरई खाता खोल देंगे. आपका एनआरई खाता केवल भारतीय रुपयों में परिचालित किया जाएगा.

प्र. क्या मैं अपने एनआरई खाते के लिए संयुक्त धारक रख सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप अपना एनआरई खाता अन्य अप्रवासी भारतीयों और/या  प्रवासी भारतीयों, जो कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 6 के अनुसार आवेदक के करीबी रिश्तेदार हैं, के साथ संयुक्त रूप से रख सकते हैं.

प्र. क्या मैं अपने एनआरई खाते के लिए नामिती को रख सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, एनआरई खाते के लिए नामांकन सुविधा उपलब्ध है.

प्र. क्या मैं भारत में मुख्तारनामाधारक रख सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ

प्र. क्या भारत में एनआरआई की ओर से मुख्तारनामाधारक एनआरई खाता खोल / बंद कर सकता है ?
उत्तर : नहीं

प्र. क्या प्रवासी मुख्तारनामाधारक एनआरई खातों का परिचालन कर सकते हैं ?
उत्तर : हाँ, बशर्ते कि ऐसे परिचालन स्थानीय भुगतानों के आहरण तक सीमित हों. यदि कोई खाताधारी भारत में निवेश करने के लिए पात्र है तो मुख्तारनामाधारक को ऐसे निवेश की सुविधा प्रदान करने की दृष्टि से खाते का परिचालन करने के लिए प्राधिकृत विक्रेता द्वारा उसे अनुमति दी जा सकती है.

प्र. क्या प्रवासी मुख्तारनामाधारक एनआरई खाते में रखी निधियों का प्रत्यावर्तन भारत से बाहर कर सकते हैं ?
उत्तर : प्रवासी मुख्तारनामाधारक को किन्हीं भी परिस्थितियों में एनआरई खाते में पड़ी निधियों को भारत से बाहर स्वयं के खाताधारी के सिवाय, न तो प्रत्यावर्तित करने और न ही खाताधारी की ओर से किसी प्रवासी को उपहार देने के माध्यम से भुगतान करने अथवा खाते से दूसरे एनआरई खाते में अंतरित करने की अनुमति दी जाएगी.

प्र. क्या प्रवासी मुख्तारनामाधारक विदेशी मुद्रा नोट, बैंक नोट और यात्री चेक एनआरई खाते में जमा कर सकते हैं ?
उत्तर : नहीं

प्र. क्या मैं अपने एनआरई सावधि जमाराशि के एवज़ में ऋण प्राप्त कर सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप अपनी सावधि जमाराशि का ७५ अंश ऋण के रूप में प्राप्त कर सकते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक के दिशानिदेशों के अनुसार अधिकतम सीमा रु.१०० लाख है. ऋण का उपयोग पुन: उधार देने, कृषि / वृक्षारोपण संबंधी गतिविधियाँ चलाने अथवा जमीन-जायदाद संबंधी कारोबार में निवेश करने में नहीं किया जा सकता है. तथापि, निर्धारित शर्तां पर एनआरई सावधि जमाओं के एवज़ में भारत में अप्रत्यावर्तनीय आधार पर कुछ विनिर्दिष्ट क्षेत्रों में और फ्लैटों / घरों का अधिग्रहण करने हेतु किया जा सकता है.

प्र. क्या मैं अपना एनआरई सावधि जमाखाता परिपक्वतापूर्व बंद कर सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, एनआरई सावधि जमा खाता परिपक्वतापूर्व बंद किया जा सकता है. यदि जमा राशि एक वर्ष से कम अवधि के लिए बैंक में रही है तो कोई ब्याज देय नहीं होगा और यदि यह एक वर्ष से अधिक के लिए रही है तो बैंक में रखी राशि की वास्तविक अवधि के लिए, जमा राशि की तारीख अथवा खाता बंद होने की तारीख को लागू दर, इनमें से जो भी कम हो, से ब्याज देय होगा. किसी भी परिस्थिति में ऐसी जमाराशि पर देय ब्याज संविदाकृत दर से अधिक नहीं होगा.

प्र. मेरे एनआरई खाते में स्वीकार्य नामे और जमा क्या-क्या होंगे ?
उत्तर : स्थानीय भुगतानों / निवेशों के लिए नामे की अनुमति है बशर्ते ऐसे निवेशों की भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा निर्मित विनियमों अथवा स्वीकृत सामान्य / विशेष अनुमति द्वारा सुरक्षा की गई हो. स्थानीय स्रोत से उत्पन्न निधियों को खाते में जमा करने की अनुमति तभी दी जाएगी जब निधियाँ प्रत्यावर्तनीय स्वरूप की होंगी.

प्र. क्या विदेशी मुद्रा नोट / यात्री चेक की राशि एनआरई खाते में जमा की जा सकती है ?
उत्तर : भारत में अपने आगमन के दौरान खाताधारी द्वारा विदेश से लाए गए विदेशी मुद्रा नोट / यात्री चेक की राशि खाते में जमा की जा सकती है बशर्ते वह राशि खाताधारी द्वारा जमा करने हेतु स्वयं दी जाती है. जहाँ दिए गए विदेशी मुद्रा नोट की राशि अमेरिकी डॉलर ५००० से अधिक अथवा इसके बराबार अथवा दी गई कुल राशि अर्थात् मुद्रा नोट व यात्री चेक मिलाकर अमेरिकी डॉलर १०००० से अधिक अथवा इसके बराबर होती है तो भारत में पहुँचने के समय आबकारी विभाग में मुद्रा घोषणा प्रपत्र पर इसकी घोषणा की जानी चाहिए. पुन:, यात्री चेक के मामले में वे चेक संबंधित बैंक अधिकारियों की उपस्थिति में खाताधारी द्वारा स्वयंं प्रस्तुत किए और भुनाए जाने चाहिए.

प्र. खाताधारी के भारत वापस लौटने पर एनआरई खाते की क्या स्थिति होती है ?
उत्तर : खाताधारी के भारत वापस लौटने के तुरंत बाद नौकरी प्राप्त करने के लिए अथवा अनिश्चित अवधि हेतु रहने की मंशा का संकेत करने वाले अन्य किसी उद्देश्य से, उसकी इच्छा पर एनआरई खाते का प्रवासी खाते के रूप में पुर्ननामांकन कर दिया जाना चाहिए अथवा इस खाते में रखी निधियों को आरएफ्ऎसी खाते (यदि खाताधारी आरएफ्ऎसी खाता रखने हेतु पात्र हो) में अंतरित कर दिया जाना चाहिए.

प्र. क्या खाताधारी खाते के ऐसे पुर्ननामांकन पर उसे ब्याज की हानि होती है?
उत्तर : नहीं, प्रवासी रुपया खाता में रुपांतरण के बावजूद भी यदि जमाराशि सम्पूर्ण अवधि के लिए रखी गई है तो बैंकों को यह सलाह दी गई है कि वह जमाराशि की परिपक्वता तक संविदाकृत दर पर ब्याज का भुगतान करना जारी रखे.

एफ्ऎसीएनआर (बी) खाते के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

प्र. एफ्ऎसीएनआर (बी) कौन है ?
उत्तर : एफ्ऎसीएनआर एक भारतीय नागरिक है जो निम्नलिखित उद्देश्य के लिए भारत से बाहर रहता है.

    (क) नियोजन या किसी कारोबार या पेशा के उद्देश्य से

    (ख) अनिश्चित काल के लिए भारत से बाहर रहने की मंशा का संकेत करने वाली परिस्थितियों के तहत

    (ग) नियोजन के संबंध में अस्थायी अवधि के लिए भारत से बाहर प्रतिनियुक्त कोई भारतीय नागरिक

प्र. मूल रूप से भारतीय कौन है ?
उत्तर : किसी दूसरे देश (बंगला देश या पाकिस्तान को छोडकर) का एक नागरिक मूल रूप से भारतीय है यदि

    (क) उसने कभी भारतीय पासपोर्ट लिया हो, अथवा

    (ख) वह अथवा उनके माता-पिता अथवा उनके दादी-दादा में से कोई भारत का के नागरिक रहे हों, अथवा

    (ग) भारतीय नागरिक का पति / की पत्नी अथवा उपर्युक्त (क) या (ख)

प्र. मैं एफसीएनआर (बी) खाता कैसे खोल सकता हूँ ?
उत्तर : हमारे बैंक की वेबसाइट से खाता खोलने का फार्म डाउनलोड करके, उसे भरकर और उसे आवश्यक दस्तावेजों व शुल्क के साथ भेजते हुए आप एफसीएनआर खाता खोल सकते हैं.

प्र. एनआरओ खाता खोलने के लिए मुझे कौन-कौन से दस्तावेज प्रस्तुत करने होंगे ?
उत्तर : पूरी तरह भरा गया आवेदन पत्र जो आपके बैंकर / भारतीय राजदूत / पब्लिक नोटरी अथवा कोई ऐसा व्यक्ति जिसे बैंक जानता हो, द्वारा हस्ताक्षरित व अभिप्रमाणित हो और उसके साथ निम्नलिखित कागज़ात संलग्न हो :

    (क) पासपोर्ट की प्रतिलिपि

    (ख) वीसा की प्रतिलिपि

    (ग) मूल रूप से अद्यतन बैंक विवरणी, आवासीय प्रमाण के लिए मूल रूप से अद्यतन विदेशी टेलीफोन / बिजली बिल

प्र. क्या मैं किसी भी मुद्रा में अपना खाता खोल सकता हूँ ?
उत्तर : एफसीएनआर (बी) खाता देना बैंक में यूएसडॉलर, जीबीपी, यूरो, सीएडी, एयूडी, एसजीडी एवं एचकेडी  में खोला जा सकता है.

प्र. एफसीएनआर (बी) खाते में कितने प्रकार के खाते होते हैं ?
उत्तर : एफसीएनआर (बी) खाते में केवल सावधि जमाराशि खाता खोला जा सकता है.

प्र. सावधि जमा खाते की अवधि कितनी होती है ?
उत्तर : एफसीएनआर (बी) सावधि जमा खाते की अवधि १ से ५ वर्षों के लिए होती है.

प्र. क्या मेरा एफसीएनआर (बी) खाता प्रत्यावर्तनीय है ?
उत्तर : हाँ, एफसीएनआर (बी) खाता मुक्त रूप से प्रत्यावर्तनीय है.

प्र. क्या वे भारत में करयोग्य हैं ?
उत्तर : नहीं, उस पर आय कर एवं संपत्ति कर से छूट है.

प्र. क्या मैं अपना एफसीएनआर (बी) खाता किन्हीं के साथ संयुक्त रूप से खोल सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप अपना एफसीएनआर (बी) खाता अन्य अप्रवासी भारतीयों और/या  प्रवासी भारतीयों, जो कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 6 के अनुसार आवेदक के करीबी रिश्तेदार हैं, के साथ संयुक्त रूप से रख सकते हैं.


प्र. क्या मैं प्रवासी मुख्तारनामा रख सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ.

प्र. क्या भारत में मुख्तारनामाधारक व्यक्ति किसी अप्रवासी भारतीय की ओर से यह खाता खोल सकते हैं ?
उत्तर : नहीं.

प्र. क्या मुख्तारनामाधारक व्यक्ति एफसीएनआर खाते का परिचालन कर सकता है?
उत्तर : हाँ, बशर्ते ये भुगतान केवल स्थानीय भुगतानों के लिए आहरण तक सीमित हों. पर जहाँ भारत में निवेश करने हेतु खाताधारी पात्र हो, वहाँ ऐसे निवेशों की सुविधा देने हेतु खाते का परिचालन करने के लिए अधिकृत विक्रेताओं द्वारा मुख्तारनामाधारक व्यक्ति को अनुमति दी जा सकती है.

प्र. क्या प्रवासी मुख्तारनामाधारक व्यक्ति एफसीएनआर खाते में पड़ी निधियों को भारत से बाहर प्रत्यावर्तित कर सकता है ?
उत्तर : प्रवासी मुख्तारनामाधारक को किन्हीं भी परिस्थितियों में एफसीएनआर खाते में पड़ी निधियों को भारत से बाहर स्वयं के खाताधारी के सिवाय, न तो प्रत्यावर्तित करने और न ही खाताधारी की ओर से किसी प्रवासी को उपहार देने के माध्यम से भुगतान करने अथवा खाते से दूसरे एफ्ऎसीएनआर खाते में अंतरित करने की अनुमति दी जाएगी.

प्र. क्या मैं अपने एफसीएनआर (बी) सावधि जमा राशियों के एवज़ में ऋण प्राप्त कर सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, आप अपनी सावधि जमाराशि का ८५ अंश ऋण के रूप में प्राप्त कर सकते हैं. भारतीय रिजर्व बैंक के दिशानिदेशों के अनुसार अधिकतम सीमा रु.१०० लाख है. ऋण का उपयोग पुन: उधार देने, कृषि / वृक्षारोपण संबंधी गतिविधियाँ चलाने अथवा जमीन-जायदाद संबंधी कारोबार में निवेश करने में नहीं किया जा सकता है. तथापि, निर्धारित शर्तां पर एफसीएनआर (बी) सावधि जमाओं के एवज़ में भारत में अप्रत्यावर्तनीय आधार पर कुछ विनिर्दिष्ट क्षेत्रों में और फ्लैटों / घरों का अधिग्रहण करने हेतु किया जा सकता है.

प्र. क्या मैं अपना एफसीएनआर (बी) सावधि जमाखाता परिपक्वतापूर्व बंद कर सकता हूँ ?
उत्तर : हाँ, एफसीएनआर (बी) सावधि जमा खाता परिपक्वतापूर्व बंद किया जा सकता है. यदि जमा राशि एक वर्ष से कम अवधि के लिए बैंक में रही है तो कोई ब्याज देय नहीं होगा और यदि यह एक वर्ष से अधिक के लिए रही है तो बैंक में रखी राशि की वास्तविक अवधि के लिए, जमा राशि की तारीख अथवा खाता बंद होने की तारीख को लागू दर, इनमें से जो भी कम हो, में से १ घटाकर ब्याज देय होगा. किसी भी परिस्थिति में ऐसी जमाराशि पर देय ब्याज संविदाकृत दर से अधिक नहीं होगा. तथापि, यदि इसी योजना के अंतर्गत इसी मुद्रा में न बीती हुई अवधि से अधिक अवधि हेतु ब्याज दर में हुई वृद्धि का लाभ लेने के लिए नवीकरण के उद्देश्य से जमा खाता को परिपक्वता से पहले बंद किया जाता है तो किसी प्रकार का दांडिक ब्याज नहीं लगाया जाएगा.

प्र. खाताधारी के भारत वापस लौटने पर एफसीएनआर खाते की क्या स्थिति होती है ?
उत्तर : खाताधारी के भारत वापस लौटने पर उसके द्वारा प्रकट की गई इच्छा के आधार पर जमाराशि को संविदाकृत ब्याज दर पर परिपक्वता तक जारी रखने की अनुमति दी जा सकती है. तथापि, एफसीएनआर (बी) जमाराशि पर लागू प्रारक्षिति अपेक्षाओं एवं ब्याज दर से संबंधित प्रावधानों को छोडकर अन्य सभी उदेश्यों के लिए, ये जमाराशियाँ खाताधारी के भारत वापस लौटने की तारीख से प्रवासी जमाराशियाँ के रूप में मानी जाएंगी. खाताधारी की इच्छा पर, एफ्ऎसीएनआर (बी) जमाराशियाँ प्रवासी रुपया जमा खाता अथवा आरएफसी खाता के रूप में रुपांतरित हो जाती है (यदि खाताधारी आरएफ्ऎसी खाता रखने का पात्र है) और नई जमाराशियों (रुपया खाता अथवा आरएफसी खाता) पर ब्याज इस प्रकार की जमाराशियों के लिए लागू संबंधित दरों पर देय होगा.