डीबीटी / डीबीटीएल का कार्यान्वयन


प्रत्यक्ष हित अंतरण (डीबीटी) / एलपीजी सब्सिडि हितग्राहियों हेतु प्रत्यक्ष हित अंतरण (डीबीटीएल) का कार्यान्वयन


बैंक
, अपने शाखाओं तथा कारोबार प्रतिनिधियों द्वारा, देश के 121 जिलों में प्रत्यक्ष हित अंतरण (डीबीटी) का कार्यान्वयन कर रहा है एवं 295 जिलों में एलपीजी सब्सिडि हितग्राहियों हेतु प्रत्यक्ष हित अंतरण (डीबीटीएल) का कार्यान्वयन कर रहा है।

 

इस संबंध में विभिन्न घटक इस प्रकार हैं :

 

(i) खाते खोलना :

 

जैसे ही संबन्धित प्राधिकारियों से डीबीटी हितग्राहियों के बारे में लिस्ट प्राप्त होगी, बैंक संबन्धित औपचारिकतायेँ पूरी करके उनके खाते खोल देगा।

 

पुन:, जैसे ही एलपीजी हितग्राहियों द्वारा बैंक से संपर्क किया जाएगा, बैंक संबन्धित औपचारिकतायेँ पूरी करके उनके खाते खोल देगा।

 

आधार पत्र / आधार कार्ड (अन्य कागजातों के अलावा) को पहचान पत्र (पीओआई) तथा निवास प्रमाण पत्र (पीओए) माना जाएगा।यद्यपि, निवास प्रमाण पत्र (पीओए) के संबंध में, बैंक हितग्राही के वर्तमान निवास के पते को सुनिश्चित करेगा।

(ii) आधार की सीडिंग :

 

सभी ग्राहक जिनके पर आधार संख्या है, द्वारा बैंक से संपर्क करने पर, उनके आधार संख्या को उनके बैंक खातों में निम्नांकित प्रकार से सीड कर दिया जाएगा:

 

() ग्राहकों द्वारा प्रत्यक्षत: शाखाओं से संपर्क करने पर

(बी) एटीएम द्वारा

(सी) इंटरनेट बैंकिंग द्वारा

(डी)एसएमएस द्वारा