देना लघु उद्यमी क्रेडिट कार्ड

(डीएलयूसीसी)
देना लघु उद्यमी क्रेडिट कार्ड योजना :

इस योजना का उद्देश्य  छोटे व्यवसायियों, खुदरा व्यापारियों, शिल्पकारों, व्यवसायिकों, स्व-नियोजित व्यक्तियों तथा छोटी औद्योगिक इकाइयों को अड़चन रहित ऋण सुविधा प्रदान करना है. इस नवीन योजना की प्रमुख विशेषताएं निम्नानुसार हैं :

उपर्युक्त श्रेणियों के अधीन पिछले तीन वर्षों से रु.१० लाख की कार्यशील पंूजी सीमाओं का उपयोग करने वाले संतोषजनक अच्छे रिकार्ड वाले विद्यमान ग्राहक इसके पात्र होंगे.


शिल्पकारों, व्यवसायियों, व्यापारियों, अति लघु क्षेत्र सहित लघु उद्यमियों के मामले में ऋण सीमा कर के प्रयोजन हेतु घोषित वार्षिक पण्यावर्त का २० निर्धारित की जाती है. स्व-नियोजित एवं व्यवसायिकों के मामले में आय कर विवरणी के अनुसार सकल वार्षिक आय के ५० की दर से नियत होती है. प्रति पार्टी अधिकतम कार्ड सीमा रु. १० लाख होती है.


यह सीमा खाते के संतोषजनक संचालन की शर्त पर तीन वर्ष की अवधि हेतु वैध होती है. शाखाएं / कार्यालय खाते के संचालन / परिचालन के आधार पर वार्षिक आधार पर आंतरिक पुनरीक्षा करेंगे और जहां कहीं भी आवश्यकता होगी , वहां उधारकर्ता द्वारा विस्तृत प्रस्ताव प्रस्तुत किए बिना ही ऋण सीमा में वृद्धि पर विचार किया जा सकता है.

ब्याज उच्चतम उधार दर पर लगाया जाता है.